करियर चयन जन्मकुंडली के अनुसार

जन्मकुंडली विद्यमान ग्रहों की स्थिति को दर्शाती है और व्यक्ति के जीवन में सफलता के लिए उपयोगी जानकारी प्रदान करती है। करियर चयन भी जन्मकुंडली के माध्यम से किया जा सकता है। यहां हम जन्मकुंडली के आधार पर करियर चयन/ career selection करने के कुछ महत्वपूर्ण तत्वों पर चर्चा करेंगे:

  1. लग्न कुंडली: लग्न कुंडली में अपने जन्म के समय आपके राशि और नक्षत्र का आधार होता है। लग्न कुंडली में आपके व्यक्तित्व, प्रकृति और कार्य के स्वभाव की जानकारी होती है। इसे पढ़कर आप जान सकते हैं कि किस क्षेत्र में आपको सफलता मिलेगी।
  2. ग्रहों की स्थिति: जन्मकुंडली में ग्रहों की स्थिति बहुत महत्वपूर्ण होती है। विभिन्न ग्रहों का प्रभाव आपके करियर में भूमिका निभाता है। जैसे कि, चंद्रमा शिक्षा और मनोवैज्ञानिक क्षेत्र में प्रभावी होता है, सूर्य करियर के अधिकांश पहलुओं को प्रभावित करता है, और बुध वाणिज्यिक और संचार क्षेत्रों के लिए अनुकूल होता है।
  3. योग और दशाएं: जन्मकुंडली में विभिन्न योग और दशाएं होती हैं जो करियर को प्रभावित कर सकती हैं। धन योग, राजयोग, विदेश यात्रा योग आदि करियर में सफलता के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। दशाओं का अध्ययन भी आपको अपने करियर/career  की प्रगति में मदद कर सकता है।
  4. उपाय: जन्मकुंडली द्वारा करियर चयन/career selection के साथ-साथ उपाय भी सुझाए जा सकते हैं। यदि ग्रहों की स्थिति आपके करियर के लिए अनुकूल नहीं है, तो विशेष उपाय और पूजाएं आपको समस्याओं से निपटने में मदद कर सकती हैं।

करियर चयन/career selection जन्मकुंडली के माध्यम से किया जा सकता है, लेकिन ध्यान दें कि केवल जन्मकुंडली पर निर्भर करके ही करियर का फैसला लेना सम्भव नहीं है। इसके अलावा, अपने रुचियों, क्षमताओं और दृष्टि के आधार पर भी करियर का चयन करना महत्वपूर्ण है। संयुक्त बुद्धि को उपयोग करते हुए और अधिक सलाह लेते हुए आप अपने अद्यतित विचारों के आधार पर सबसे अच्छा करियर /career चुन सकते हैं।

राशि के अनुसार सही करियर/career चुने:-

यहां आपके राशि के अनुसार सही करियर चुनने के कुछ सुझाव हैं:

  1. मेष राशि (21 मार्च – 19 अप्रैल): मेष राशि के व्यक्ति अधिकारी होते हैं, प्रतियोगी होते हैं, और संघर्षशील होते हैं। उन्हें लीडरशिप की क्षमता होती है और वे प्रशासनिक और प्रबंधनिक क्षेत्रों में अच्छे करियर के लिए उपयुक्त होते हैं। उन्हें भी कार्यक्रम निर्माण, विपणन, प्रमोशन और विपणन क्षेत्रों में सफलता मिलती है।
  2. वृषभ राशि (20 अप्रैल – 20 मई): वृषभ राशि के लोगों को धैर्य और स्थिरता की आवश्यकता होती है। वे कला, संगीत, फ़ाशन, ग्राहक सेवा, बैंकिंग, वित्त, शिल्पकला, खाद्य प्रसंस्करण और प्रबंधन क्षेत्रों में अपनी स्थायित्वपूर्ण कौशलों का उपयोग करके सफलता प्राप्त कर सकते हैं।
  3. मिथुन राशि (21 मई – 20 जून): मिथुन राशि के लोग संचार के दक्ष होते हैं और उन्हें वाणिज्यिक, प्रचार, पत्रकारिता, लेखन, न्यायिक क्षेत्र और ज्ञान संचालन क्षेत्र में अच्छे करियर के अवसर मिलते हैं। उन्हें भी तकनीकी क्षेत्र, जैसे कि इंटरनेट और टेक्नोलॉजी, में रुचि हो सकती है।
  4. कर्क राशि (21 जून – 22 जुलाई): कर्क राशि के लोग संपर्क का ध्यान रखने वाले होते हैं और उन्हें गहनता, पालन-पोषण, शिक्षा, मानव संसाधन, रसोईपाल, संगठनात्मक क्षेत्र और चिकित्सा क्षेत्र में अपनी क्षमताओं का उपयोग करके सफलता प्राप्त कर सकते हैं।
  5. सिंह राशि (23 जुलाई – 22 अगस्त): सिंह राशि के लोग स्वतंत्रता, प्रतिभा, और प्रभावशीलता के प्रशंसक होते हैं। वे नेतृत्व क्षेत्र, अभिनय, प्रशासनिक क्षेत्र, शिक्षा, नृत्य, साहित्यिक क्षेत्र, स्वास्थ्य सेवा, आईटी सेक्टर और अध्यात्म क्षेत्र में अपनी प्रभावी प्रतिभा का उपयोग करके सफलता प्राप्त कर सकते हैं।
  6. कन्या राशि (23 अगस्त – 22 सितंबर): कन्या राशि के लोग विचारशील, विवेकी, और व्यवस्थापक होते हैं। उन्हें वैज्ञानिक, सेवानिवृत्ति, स्वास्थ्य और रोगनिदान, संगठनात्मक क्षेत्र, शिक्षा, लेखन, न्यायिक क्षेत्र, ज्योतिष, ग्राहक सेवा, और बाज़ार अनुसंधान क्षेत्र में अपनी निपुणता का उपयोग करके सफलता मिलती है।
  7. तुला राशि (23 सितंबर – 22 अक्टूबर): तुला राशि के लोगों को समानता, सामंजस्य, और न्याय की आवश्यकता होती है। उन्हें सामरिक क्षेत्र, कला, वकीली, बैंकिंग, न्यायिक क्षेत्र, सलाहकारी, संगठनात्मक क्षेत्र, वित्तीय सलाह, निपुणता का उपयोग करके सफलता प्राप्त होती है।
  8. वृश्चिक राशि (23 अक्टूबर – 21 नवंबर): वृश्चिक राशि के लोगों को गहराई, संशोधन, और अध्ययन की आवश्यकता होती है। उन्हें वैज्ञानिक, अनुसंधान, गहनता, तन्त्र-मंत्र, पुलिसी, तंत्रिका, चिकित्सा, महानिदेशक, वित्तीय सलाहकार, एनर्जी सेक्टर, और राजनीति क्षेत्र में अपनी गहराई के आधार पर सफलता प्राप्त होती है।
  9. धनु राशि (22 नवंबर – 21 दिसंबर): धनु राशि के लोगों को उदारता, ज्ञान, और विस्तार की आवश्यकता होती है। उन्हें यात्रा और पर्यटन, शिक्षा, उच्च शिक्षा, दर्शन, साहित्य, संचार, संगठनात्मक क्षेत्र, आउटडोर कार्यक्रम, आईटी सेक्टर, और संगीत क्षेत्र में अपनी उदारता और ज्ञान का उपयोग करके सफलता मिलती है।
  10. मकर राशि (22 दिसंबर – 19 जनवरी): मकर राशि के लोगों को कर्म, निष्ठा, और उद्यमशीलता की आवश्यकता होती है। उन्हें प्रशासनिक क्षेत्र, निर्माण उद्योग, बैंकिंग, वित्तीय सेवाएं, नृत्य, प्रबंधन, निदेशक, संगठनात्मक क्षेत्र, और अच्छी संरचना के क्षेत्र में उनकी निष्ठा और कर्मठता से सफलता मिलती है।
  11. कुंभ राशि (20 जनवरी – 18 फ़रवरी): कुंभ राशि के लोगों को नवीनता, समाजसेवा, और विचाराधीनता की आवश्यकता होती है। उन्हें वैज्ञानिक, तकनीकी क्षेत्र, सामाजिक कार्य, नागरिक संगठन, समाचार मीडिया, टेक्नोलॉजी सेक्टर, अनुसंधान, राष्ट्रीय संगठन, और नवाचार के क्षेत्र में अपनी नवीनता और समाजसेवा के माध्यम से सफलता मिलती है।
  12. मीन राशि (19 फ़रवरी – 20 मार्च): मीन राशि के लोगों को सहजता, संवेदनशीलता, और आध्यात्मिकता की आवश्यकता होती है। उन्हें कला, संगीत, लेखन, फ़िल्म इंडस्ट्री, साहित्य, धर्मिक क्षेत्र, चिकित्सा, ज्योतिष, विज्ञान, मनोविज्ञान, और नृत्य क्षेत्र में अपनी संवेदनशीलता और आध्यात्मिकता का उपयोग करके सफलता प्राप्त होती है।

कौन से ग्रह करियर/career  निर्धारण में मदद करते है

प्रकृति, ग्रहों, और नक्षत्रों का माना जाता है। वेदिक ज्योतिष में निर्दिष्ट ग्रह और उनकी स्थितियों को व्यक्ति के करियर के निर्धारण में महत्वपूर्ण माना जाता है। ये ग्रह हैं:

  1. सूर्य (सूर्य ग्रह): सूर्य ग्रह करियर में नेतृत्व, प्रबंधन, एगो, स्वाधीनता, उत्कृष्टता, शाखा प्रशासन, राजनीति, और प्रमुखता के क्षेत्रों को प्रभावित करता है।
  2. चंद्र (चन्द्र ग्रह): चन्द्र ग्रह करियर/career  में भावनात्मकता, संवेदनशीलता, लोगों के साथ संपर्क, रसोईपाल, नगरीय विकास, पालन-पोषण, भूमि के विकास, और यात्रा के क्षेत्रों पर प्रभाव डालता है।
  3. मंगल (मंगल ग्रह): मंगल ग्रह करियर में शक्ति, प्रतिस्पर्धा, सेना, निर्माण, तकनीकी क्षेत्र, इंजीनियरिंग, चिकित्सा, खेल, फायर-फाइटिंग, और नेतृत्व के क्षेत्रों पर प्रभाव डालता है।
  4. बुध (बुध ग्रह): बुध ग्रह करियर में बुद्धिमत्ता, विचारशीलता, शिक्षा, संचार, लेखन, संगठनात्मक क्षेत्र, ज्योतिष, वित्तीय सलाह, यात्रा, और संगीत के क्षेत्रों पर प्रभाव डालता है।
  5. गुरु (गुरु ग्रह): गुरु ग्रह करियर में ज्ञान, शिक्षा, न्याय, धार्मिक संस्थान, नेतृत्व, प्रशासनिक क्षेत्र, लेखन, सलाहकार, विदेशी संबंध, विपणन, और संगठनात्मक क्षेत्रों पर प्रभाव डालता है।
  6. शुक्र (शुक्र ग्रह): शुक्र ग्रह करियर में कला, सौंदर्य, फैशन, मनोरंजन, संगीत, डिज़ाइन, समृद्धि, संगठनात्मक क्षेत्र, वित्तीय सलाह, और प्रेम के क्षेत्रों पर प्रभाव डालता है।
  7. शनि (शनि ग्रह): शनि ग्रह करियर/career  में संगठन, उद्यमशीलता, परिश्रम, संघटन, अधिकारिता, न्यायिक क्षेत्र, निर्माण उद्योग, ज्योतिष, वित्तीय सलाह, और वैधानिक क्षेत्रों पर प्रभाव डालता है।

कौनसे भाव व्यक्ति के करियर/career के लिए महत्वपूर्ण होती हैं

वैदिक ज्योतिष में करियर के निर्धारण के लिए भवनों को महत्वपूर्ण माना जाता है। निम्नलिखित भवनें व्यक्ति के करियर के लिए महत्वपूर्ण होती हैं:

  1. लग्न भाव (पहला भाव): यह भाव व्यक्ति के व्यक्तित्व, चरित्र, और शारीरिक दशा को प्रतिष्ठित करता है। इस भाव में ग्रहों की स्थिति करियर के निर्धारण में महत्वपूर्ण होती है।
  2. दशम भाव (दसवां भाव): इस भाव में स्थित ग्रह व्यक्ति के करियर, पद, स्थान, और सामरिक सफलता को प्रभावित करते हैं। यह भाव व्यक्ति के पेशेवर क्षेत्र, उद्योग, नौकरी, व्यापार, या स्वयंसेवा के अनुकूल होता है।
  3. सप्तम भाव (सातवां भाव): यह भाव व्यापार, साझेदारी, संबंध, व्यापारिक क्षेत्र, विवाह, और समझौते को प्रभावित करता है। अगर ग्रह सप्तम भाव में उच्च स्थित हैं, तो व्यक्ति व्यापारिक क्षेत्र में सफल हो सकता है।
  4. द्वादश भाव (बारहवां भाव): इस भाव में स्थित ग्रह व्यक्ति की विदेश यात्रा, अनुसंधान, शिक्षा, विद्या, और गतिविधियों को प्रभावित करते हैं। यह भाव उच्च शिक्षा, विदेश में पढ़ाई, और विदेशी क्षेत्र में करियर के लिए महत्वपूर्ण होता है।
  5. त्रिकोण भाव (तीसरा, एकादश, और पंचम भाव): ये भाव व्यक्ति के अध्यात्मिक विकास, बुद्धि, कला, संगीत, गतिविधियों, और बच्चों के साथ संबंधित क्षेत्रों को प्रभावित करते हैं। ग्रहों की स्थिति इन भावों में करियर के निर्धारण के लिए महत्वपूर्ण होती है।

व्यक्ति के लिए सर्वश्रेष्ठ या करियर/career  के लिए कोनसा चार्ट महत्वपूर्ण है
वैदिक ज्योतिष में, किसी व्यक्ति के लिए सर्वश्रेष्ठ पेशेवरी या करियर के लिए उपयुक्त चार्ट के लिए “जन्म कुंडली” या “नेटल चार्ट” महत्वपूर्ण माना जाता है। जन्म कुंडली व्यक्ति की जन्म की समय और स्थान के आधार पर ब्रह्मांडीय स्थितियों का एक मानचित्र होता है। इस चार्ट में ग्रहों, भावों, और नक्षत्रों की स्थिति का विश्लेषण किया जाता है और यह बताता है कि व्यक्ति के लिए कौन सी पेशेवरी या करियर/career  सबसे उपयुक्त हो सकती है।

क्या जन्म कुंडली आपके करियर/career के बारे में जानकारी प्रदान कर सकती है

हाँ, जन्म कुंडली या “जन्म पत्रिका” आपके करियर के बारे में जानकारी प्रदान कर सकती है। वैदिक ज्योतिष में, जन्म कुंडली व्यक्ति की जन्म की तारीख, समय, और स्थान के आधार पर ब्रह्मांडीय ग्रहों की स्थितियों का एक मानचित्र होती है। इस मानचित्र में ग्रहों, भावों, और नक्षत्रों की स्थिति के आधार पर करियर के विभिन्न पहलुओं की संकेतों की जांच की जाती है। जन्म कुंडली में स्थित ग्रहों का विश्लेषण करके ज्योतिषी आपको आपके करियर के माध्यम से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर सकते हैं, जैसे कि शुभ दशा का समय, उच्च ग्रहों के प्रभाव, राशि और नक्षत्र के आधार पर योग्यता और प्राथमिकता। यह जानकारी आपको अपने करियर की दिशा और चयन करने में मदद कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *